Home

हिन्दी कविता-प्यासा कौआ (Hindi poem for kids)





एक था कौआ, बहुत ही प्यासा,
गर्मी से घबराता था, पानी मिल नही पाता था !
कां-कां करता शोर मचाता,
पानी फिर भी मिल न पाता !
तभी घड़ा एक दिया दिखाई,
जान में जान उसके आई!
चोंच पानी तक पहुँच न पाई,
यह एक और मुसीबत आई!
कंकड़ झट से खूब उठाए,
ढप ढप कर पानी में गिराए!
पानी झट से उपर आया,
प्यास बुझी, कौआ मुस्काया!

More hindi Poems for kids