Home

हिन्दी कविता- हँसते तारे (Hindi poem for kids)





चकमक चकमक चमकें तारे
छोटे छोटे प्यारे प्यारे
आसमान में इतने उँचे
जहाँ हमारा हाथ न पहुँचे !

जब यह सूरज छिप जाता है
चाँद कहीं न दिखलाता है,
यह हँसते मुस्काते आते
अन्धरे में राह दिखाते !

More hindi Poems for kids