Home

हिन्दी कविता- भूल गया है क्यों इंसान(Hindi poem for kids)





भूल गया है क्यों इंसान
सबकी है मिट्टी की काया,
सब पर नभ की निर्मल छाया,
यहाँ नही कोई आया है, ले विशेष वरदान!
भूल गया है क्यों इंसान !

धरती ने मानव उपजाये,
मानव ने ही देश बनाए,
बहुदेशो में बसी हुई है, एक धरा-संतान!
भूल गया है क्यों इंसान!
देश अलग है, देश अलग हों,
देश अलग है, वेश अलग हों,

मानव को मानव से लकिन जोड़े, अंतर प्राण !
भूल गया है क्यों इंसान!
हरिवंशराय बcचन

More hindi Poems for kids