Home

हिन्दी कविता- बया का घर (Hindi poem for kids)





बया बनाती है अपना घर,
कितना प्यारा कितना सुंदर !
तिनके चुन-चुनकर वह लाती,
जोड़-जोड़कर इन्हे सजाती !

इसके अंदर हैं दो खाने,
अजब ढंग के ताना-बाने !
डाली पर वह झूल रही है,
बैठ खुशी से फूल रही है !

More hindi Poems for kids