Home

हिन्दी कविता- काश वो बचपन फिर आता (Hindi poem for kids)





काश वो बचपन फिर आता,
मन उमंगो से भर जाता,
फिर से उड़ते हम सपनो के आसमा में
इच्छावों के पंख लगाये परियों के जहाँ में
काश वो सावन फिर आता
मन उमंगों से भर जाता


फिर से वो दिन लौट आते
जब कागज की कश्ती पानी में बहाते
काश वो रातें फिर आती
मीठे मीठे सपने लाती
फिर से सुनाती हमें दादी कहानी
दैत्यों के देश में परियो की रानी
काश मिलती वो पीपल का छांव
कच्ची पगडण्डी वो सपनो का गाँव

 


फिर से छिप जाता माँ के अंचल में
ममता की गोद नैनो के काजल में
काश मै फिर बच्चा बन जाता
यादों की गलियों में जाता
रहता मै हमेशा ख्वाबों में
लौट के फिर कभी न आता........

More hindi Poems for kids